मेडिटेशन कैसे करें: मन और शरीर के लिए इसके 7 फायदे

Spread the love

दोस्तों आज के समय में टेंशन (तनाव) या चिंता ने अपनी जगह ऐसी बनायी है हमारी जिंदगी में कि ऐसा लगता है की यह प्रतिदिन या रोजमर्रा की जीवनशैली का हिस्सा हो ऐसे में हमारा ध्यान और भी ज्यादा इस बात पर होना चाहिए की कैसे हम अपनी जीवनशैली पर इन सब का कम से कम असर होने दें ऐसे में “मेडिटेशन” या “ध्यान” करना हमारे लिए काफी मददगार साबित हो रहा है और आगे भी हो सकता है परन्तु कई लोगो को यह पता नही होता कि मेडिटेशन क्या है और मेडिटेशन कैसे करें दरअसल हम साधारण मनुष्य इसे अच्छे से समझ ही नही पाते हैकुछ लोग से समझते हैं कि “ध्यान” प्रार्थना है, पूजा का एक अलग रूप है, लेकिन वास्तिवकता ये नही है ध्यान” एक ऐसी प्रकिया है जिसे करने के फलस्वरूप हमें आत्मिक रूप से “शांति और आनन्द” की अनुभूति होती है मेडिटेशन हमारे अंदर की इन्द्रियों को जागृत करता है हम छोटी से छोटी ध्वनि भी महसूस कर पाते है, जो सामान्य तौर पर नही कर पाते है जैसे की वायु में किसी भी निम्न ध्वनि को सुनना, हमारे अंदर के श्वासों को सुनना, हमारे अंदर के श्वासों का आना और जाना भी महसूस कर सकते है 

Tabel of Contents

मेडिटेशन क्या है? Meditation Kya Hai in Hindi

मेडिटेशन-कैसे-करें-मन-और-शरीर-के-लिए-इसके-फायदे

मेडिटेशन वो जरिया है, जिसको अपनाकर हम अपनी दैनिक जीवन के तनाव को दूर कर सकते है आजकल के समय में लोग सबसे ज्यादा मानसिक तनाव से गुजर रहे है ऐसे में मेडिटेशन हमारे मानसिक तनाव को कम करने में अति सहायक होता है एक स्वस्थ जीवनशैली के लिए योग अति आवश्यक है और जो लोग योग के महत्त्व को समझते है, उन्हें “मेडिटेशन” या “ध्यान” के बारे में समझाना ज्यादा मुश्किल नही होता है अगर मनुष्य पूरी तरह से “धयान” में होता है, तो उसे सूक्ष्म से सूक्ष्म ध्वनि भी महसूस होती हैजैसे-खुद की श्वास की आवाज सुनाई देना, पछियों की ध्वनि सुनाई देना इत्यादि लेकिन अगर आप मेडिटेशन की मुद्रा में है और आपको आस-पास की आवाज या क्रिया-कलापों से कुछ फर्क नही पड़ता तो ऐसे में मेडिटेशन सही ढंग से हो पाता है और इसके फायदे भी अधिक होते है तो, आइये जानते है कि “मेडिटेशन” या “ध्यान” मुख्य रूप से कितने प्रकार के होते हैं|

मेडिटेशन मुख्य रूप से 3 प्रकार के होते है (1) स्थूल ध्यान (2) ज्योतिर्ध्यान धयान (3) सूक्ष्म ध्यान 

(1) स्थूल ध्यान :-

स्थूल ध्यान का मतलब होता है, बैठकर किया जाने वाला ध्यान जैसे कि पद्मासन या सिंहासन में बैठकर आँख मूंदकर प्रकृति, मूर्ति या किसी देवता के बारे में ध्यान लगाना ही स्थूल ध्यान हैशरीर के भीतर स्थित हृदय वक्र पर ध्यान देना भी स्थूल ध्यान का ही रूप है इस रूप में ध्यान अधिकतर कल्पनाओं से जुड़े होते है और कल्पनाओं की महत्ता को ही समझते हैं 

(2) ज्योतिर्ध्यान धयान :-

मूलाधार और लिंगमूल के मध्य में कुंडलिनी सर्पाकार में स्थित है| इस स्थान पर ज्योतिरूप ब्रह्म का ध्यान करना ही ज्योतिर्ध्यान है|

(3) सूक्ष्म ध्यान :- 

साधक सोनाबी मुद्रा का अनुष्ठान करते हुए कुंडलिनी का ध्यान करें इस प्रकार के ध्यान को सूक्ष्म ध्यान कहते है

इसे भी पढ़े अपराजिता के फायदे और नुकसान Aprajita benefits in hindi

आइये अब जानते है कि मेडिटेशन कैसे शुरू किया जाए, जो फायदेमंद हो

मेडिटेशन की शुरुआत कैसे करें :-

मेडिटेशन को अपने जीवन का हिस्सा बनाने से पहले कोशिश करें की टेंशन या तनाव जितना हो सके कम से कम हो क्योंकि टेंशन से भरे दिमाग में ध्यान लगाना कुछ ज्यादा फायदेमंद नही हो पाता है हालांकि शुरुआत के दौर में मेडिटेशन करते समय तरह-तरह की परेशानियां होती है, लेकिन धीरे-धीरे फिर सब सही हो जाता है और हमारा मन भी लगने लगता है अगर मन रमने लगे तो शांति और प्रसन्नता के साथ और भी फायदे है, जो “मेडिटेशन” से मिलते हैं इसके लिए सिर्फ इस बात का ध्यान रखना है की इसे सही तरीके से और प्रतिदिन किया जाए

मेडिटेशन कैसे करें :- Meditation Kaise Karen in Hindi

अगर मेडिटेशन सही तरीके से किया जाए, तो यह फायदेमंद साबित होता है| यह शारीरिक फिटनेस के साथ-साथ मानसिक शांति भी प्रदान करता है मेडिटेशन के कारण प्रसन्नता, शांति और सुकून अंदर से महसूस होने लगता है इसके लिए जरुरी है की मेडिटेशन को सही तरीके, सही समय और सही जगह पर किया जाए दरअसल मेडिटेशन आत्मिक शांति के लिए किया जाता है, परंतु इसे सही ढंग से करने के लिए कोशिश करनी चाहिए कि जिस जगह पर मेडिटेशन कर रहें हो वहां AC के बदले प्राकृतिक वायु का संचालन हो रहा हो ज्यादा शोर-गुल वाली जगह ना हो, वहां की रौशनी, दीवारों के रंग बहुत ज्यादा गहरे और तेज ना होये सब शुरुआत में ध्यान लगाने में बहुत मुश्किल पैदा करते है कोशिश ये भी करें की सुबह-सुबह ही मेडिटेशन किया जाए, जिससे शोर-गुल और तेज रौशनी जैसे ध्यान भंग करनेवाले तत्वों या कारको का सामना करना ना पड़े 

मेडिटेशन के फायदे :- Meditation Benefits in Hindi

मेडिटेशन मानसिक के साथ-साथ शारीरिक लाभ भी प्रदान करता है यह हमे मानसिक रूप से मजबूत बनाता है जिसके परिणामस्वरूप हम बड़े-बड़े समस्यानों का सामना भी आसानी से कर लेते है इसके मुख्य फायदे क्या-क्या है, जानने की कोशिश करते है

(1) चिंता को करे कम :-

मेडिटेशन अगर नियमित रूप से किया जाए तो डिप्रेशन, एंजाएटी, मेटल डिसऑर्डर जैसे समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है मेडिटेशन के कारण स्ट्रेस लेवल को कम करके हम तनावमुक्त और प्रसन्नता भरी जिंदगी जी सकते है

(2) नींद की परेशानी में लाभकारी :-

आजकल की तनावपूर्ण जिंदगी में नींद ना आना या नींद का पर्याप्त ना होना एक बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है ऐसे में मेडिटेशन आपकी इस समस्या को खत्म करके एक अच्छी और आरामदायक नींद पूरी करने में सहायता करेगा

(3) बच्चों के लिए पढाई में एकाग्रता लाये :-

आजकल की जीवनशैली में टेलिविज़न, मोबाईल जैसे गैजेट/उपकरण के प्रयोग से बच्चों की मानसिक शांति भी अलग-अलग तरीको से प्रभावित हो रही है जिससे उन्हें पढाई में मन ना लगना, खेलकूद में भी मन का नही लगना जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है ऐसे में मेडिटेशन की आदत उन्हें अगर बचपन से ही दे दी जाए तो उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत बनाया जा सकता है और उनकी पढाई में भी एकाग्रता आती है

(4) एंटी- एजिंग से मुक्ति :-

मेडिटेशन से हमारा दिमाग और दिल शांत रहता है, जिससे हम तनावमुक्त हो जाते है और हमारे चेहरे पे सुकून भरी चमक आती हैजो हमें जल्द बुढ़ापा लानेवाले तत्वों से दूर रखता है और हम जवां दिखते एवं महसूस करते है 

(5) इम्यून सिस्टम की मजबूती :-

मेडिटेशन से मानसिक ही नही शारीरिक लाभ भी होते है शरीर में एंटी-बॉडीज का विकास तेजी से होता है और शरीर फ्लू या वायरस से लड़ने के लिए और भी मजबूत बन जाता है

इसे भी पढ़े : योगासन (एसिडिटी) का रामबाण इलाज कैसे करें

(6) गलत व्यसन या लत से छुटकारा :-

मेडिटेशन से मनुष्य का मानसिक संतुलन सही और अनुशासित होता है जिससे उसका नियंत्रण स्वंय पर बढ़ता है और फलस्वरूप सोचने और समझने की क्षमता बढ़ती है जिससे कि समस्या का कारण और निवारण जानने में आसानी होती है और हम समझ पाते है कि व्यसन या लत हमारे लिए कितना नुकसानदायक है और इस तरह यह छुट भी जाता है

(7) रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक :-

मेडिटेशन या ध्यान के रोजाना अभ्यास से हृदय पर पड़ने वाला दबाव या प्रेशर कम हो जाता हैजिससे शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार होने लगता है जब कुछ लोगों पर यह प्रयोग करके चिकित्सकों ने ये पाया कि जब “ध्यान” केंद्रित हो जाता है तब औसतन 5 से 10 प्रतिशत तक रक्त का दबाव या ब्लडप्रेशर कम होता है और तंत्रिका तंत्र के नियंत्रित से ब्लडप्रेशर कम होने लगता है, जिससे “उच्च रक्तचाप” के मरीजों को लाभ होता है और उनका ब्लड प्रेशर सामान्य होने लगता है

नोट:- मेडिटेशन के इतने फायदों के बावजूद इसके कुछ नुकसान है, जिन्हें भी जानने की कोशिश करते है

मेडिटेशन से नुकसान Disadvantage of Meditation in Hindi

(1) बिना पूरी जानकारी के करने से नुकसान :-

मेडिटेशन करने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी लेना अति आवश्यक होता है यदि हम जानकारी के अभाव में किसी भी तरह से या किसी भी समय में करने लगेंगे तो यह फायदे के बजाए नुकसान देने लगेगा

(2) शरीर का पोश्चर सही नही होना :-

मेडिटेशन शुरू करने से पहले शरीर का पोश्चर या आसन का ध्यान रखना भी अति आवश्यक हैक्योंकि अगर हमें पोश्चर का पता नही होगा तो भी इसके फायदे नही होंगे और नुकसान होने की संभावना ज्यादा होती है गलत पोश्चर से शरीर में गलत खिचावं हो जाता है

(3) नींद की परेशानी :- 

मेडिटेशन के प्रभाव से नींद की कमी में सुधार होता है लेकिन आपको पहले से भी नींद की कमी महसूस होने लगे तो इसका साफ मतलब यह है की आपको इतने समय नही बल्कि इससे कम करने की आवश्यकता है, वरना यह नुकसानदायक साबित हो सकता है

(4) मोटिवेशन में कमी होना :-

वैसे तो मेडिटेशन “मोटिवेशन” के लिए भी किया जाता है, लेकिन अगर बहुत अधिक कर लिया जाए तो इसके प्रभाव से मोटिवेशन और प्रेरणा में कमी आने लगती है, जिससे फायदा के बजाए नुकसान होने लगता है

(5) समाज से अलगाव :-

मेडिटेशन का एक असर ये भी होता है की लोग अधिक ‘ध्यान” के कारण अपने आप में खुश और संतुष्ट रहने लगते है, जो की उन्हें समाज और सामाजिकता से दूर ले जाता है इससे भी बहुत नुकसान होता है 

    दोस्तों अंतत: यही कहना चाहती हूँ कि अति से बचना चाहिए क्योंकि अति या अधिकता हरेक काम में फायदा कम नुकसान ज्यादा दे जाते हैआपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी, हमे कमेंट करके जरुर बताएं और साथ ही जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों में शेयर भी करें। ऐसे ही रोचक जानकारियों के लिए हमसे जुड़े रहे है

धन्यवाद 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

0 thoughts on “मेडिटेशन कैसे करें: मन और शरीर के लिए इसके 7 फायदे”

Leave a Comment