हीट स्ट्रोक यानि लू क्या है? गर्मी में क्यों बढ़ जाता है हीट स्ट्रोक का खतरा?

Spread the love

हैलो दोस्तो ! आप सबका स्वागत है मेरी वैबसाइट “अच्छी and Healthy जानकारी” मेंआज मैं आप सभी को हीट स्ट्रोक यानि लू के बारे मे कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रही हूँ

हीट स्ट्रोक यानि लू क्या है
हीट-स्ट्रोक

दोस्तों जैसा की आप सभी ये जानते है की गर्मी का मौसम सबसे ज्यादा कठिनाईयों वाला मौसम होता है यधपि इन्ही मौसम में सभी प्रकार की छुटियाँ भी होती है जिसे हम सब इंजॉय करना चाहते है गर्मी का मौसम कई प्रकार की स्वास्थ समस्याऐ भी लाती है जिसमे प्रमुख है हीट स्ट्रोक यानि (लू)

जब हम अत्यधिक तापमान में बहुत अधिक समय तक रहते है तो हीट स्ट्रोक से प्रभावित हो जाते है हीट स्ट्रोक (लू) आमतौर पर तब होता है जब शरीर में पानी और नमक की मात्रा कम हो जाती है और पसीना आना भी बंद हो जाता है

वर्तमान में भारत के कई भागों में तापमान बहुत तेजी से बढ़ता जा रहा है कई राज्यों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार हो चुका है भारतीय मौसम विभाग के द्वारा जारी चेतावनी से ऐसा प्रतीत हो रहा है की आने वाले दिनों में इसमें और अधिक बढ़ोतरी की संभावना है गर्मी बढ़ने के साथ ही साथ गर्म हवाएं और तेज़ धूप में भी बढ़ोतरी होगी, जिसके कारण हीट exhaustion (थकावट), हीट स्ट्रोक (लू) आदि जैसी समस्याए शुरू हो जांएगी जो स्वास्थ के लिए बहुत ही हानिकारक होगी 

हीट exhaustion (थकावट) और हीट स्ट्रोक (लू) के प्रभाव से शारीरिक उर्जा खत्म होने लगती है 

हीट (लू) स्ट्रोक के प्रारंभिक लक्षण :-

1. बेहोशी आना

2. थकावट महसूस होना

3. नाड़ी गति का बढ़ जाना

4. चिड़चिड़ापन

5. शारीरिक तापमान का बढ़ जाना

6. सर दर्द

7. गर्मी के बावजूद पसीना न आना

8. धड़कन का तेज़ होना

9. साँस लेने में तकलीफ होना

10. घबराहट एवं बेचैनी महसूस करना

यदि ऐसा दिखाई दे तो तुरंत इसका इलाज या उपाय शुरू कर देना चाहिए अन्यथा कभी-कभी यह जानलेवा भी हो जाता है

इसे भी पढ़ें :- मानसून : परेशानियाँ एवं बचनें के उपाय

ऐसे देखा जाए तो कोई भी व्यक्ति हीट स्ट्रोक से प्रभावित हो सकता है परन्तु निम्लिखित व्यक्तियों के प्रभावित होने की सम्भावना ज्यादा होती है :

1. जिस व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता कम हो

2. तेज़ धूप मे अधिक समय तक कार्य करता हो

3. मोटापे से ग्रस्त हो

4. मधुमेह, मानसिक बीमारी से ग्रस्त हो

5. अत्यधिक शराब या नशीले पदार्थ का सेवन करता हो

6. दिल की बीमारियों से ग्रसित व्यक्ति 

हीट स्ट्रोक के लक्षण दिखने पर क्या करना चाहिए :-

1. हीट स्ट्रोक (लू) से प्रभावित व्यक्ति को संभव हो सके तो तुरंत स्नान कराना चाहिए यदि ऐसा करना संभव न हो सके तो गीली चादर में लपेट कर रखें और उसे पानी या एलेक्ट्रोलैटिस पिलाते रहना चाहिए जिससे वह हाईड्रेटड रहें

2. पैरों को ऊपर करके रखें

3. यदि व्यक्ति बेहोश हो जाए तो तुरन्त उसे अस्पताल ले जाए और डॉक्टर से परामर्श लें

हीट स्ट्रोक से बचाव के घरेलु उपाय :-

हीटस्ट्रोक से बचाव के लिए निम्नलिखित खाद्य एवं पेय पदार्थो का सेवन करना चाहिए

 

हीट-स्ट्रोक-से-बचे
आम का पना हीट स्ट्रोक से बचाए

 

1. आम का पना :-हीट स्ट्रोक के प्रभाव से बचने या कम करने के लिए कच्चे आम का पना बहुत ही कारगर होता है कच्चे आम से बना हुआ पना (जूस) शीघ्र ही शरीर में नमक और पानी की मात्रा को संतुलित करना शुरू कर देता है इसे बनाने के लिए कच्चा आम, जीरा, काली मिर्च, कला नमक और सौफ की आवश्यकता पड़ती है

हीट-स्ट्रोक-से-कैसे-बचाव-करें
नारियल पानी

2. नारियल का पानी :- शरीर को तत्काल हाईड्रेटड करने का सबसे अच्छा उपाय है नारियल का पानी पीना। नारियल पानी में बहुत सारे पौष्टिक तत्व मौजूद होते है जो शरीर को तात्कालिक उर्जा प्रदान करते है। गर्मी के दिनों में इसका प्रतिदिन सेवन करना चाहिए। जिससे गर्मी से उत्पन होने वाली समस्यों से आप सुरक्षित रह सकते है

3. प्याज :- हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए प्याज भी बहुत उपयोगी होता है इसके रस को छाती पर लगाने से शरीर का तापमान कम हो जाता है गर्मी के मौसम में प्याज का उपयोग सलाद के रूप में करना बहुत ही फायदेमंद होता है

4. तुलसी का बीज :- तुलसी के बीज सुपर फूड होते है ये बीज बहुत ही पौष्टिक होते है और इसमे जल धारण क्षमता ज़्यदा होती है एक चम्मच बीज को शेक या लस्सी मे मिला कर पिए अथवा पानी मे ऐसे ही भिंगो कर पिए

5. आजवईन के पत्ते :- आजवईन के पत्तों मे भरपूर मात्रा मे पानी पाया जाता है इसका सेवन करने से शरीर मे नमी बनी रहती है

6. मरीज को तुरंत प्याज का रस शहद में मिला कर देना चाहिए इसके अतिरिक्त बेल का शर्बत, नींबू और नमक का शर्बत, चीनी की शिकंजी का उपयोग भी बहुत लाभकारी होता है लू लाग्ने पर इमली का गूदा पानी मे घोलकर हथेलियों और तलवों पर मलना अच्छा होता है 

हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए इन बातों का ध्यान रखना चाहिए :-

इन दिनो गर्मी अपने चरमोत्कर्ष पर है ऐसे मे यदि घर से बाहर निकलना जोखिम भरा हो सकता है यदि बाहर निकलना जरूरी हो तो शरीर को पूरी तरह से ढक कर निकले ध्यान रहे की मुख, सर एवं हाथ पूरी तरह से ढका रहे हमेशा सूती कपड़ा ही पहने बाहर निकले तो छाता का उपयोग करें कभी भी घर से खाली पेट नही निकले

 

चेतावनी :- हीट स्ट्रोक से प्रभावित व्यक्ति को एनर्जी या शुगर वाले पेय पदार्थ भूल कर भी नही दें इसके अलावे इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए की पानी बहुत ठंडा न पियेकभी-कभी यह बहुत घातक साबित हो जाता है एक सर्वे के अनुसार हीट स्ट्रोक यानि लू लाग्ने के बाद इसका पूरा इलाज कराने के बावजूद लगभग 60 % मरीजों की मौत हो जाती है   

तो, दोस्तों आप लोगों को मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी, कृपया बताइएगा जरुर अगर जानकारी अच्छी लगे तो सब्सक्राइब एवं कमेंट जरुर कीजिएगा साथ ही साथ अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें यदि आप सब को लगे की कुछ कमी है हो उससे भी जरुर सूचित कीजिएगा जिससे की मै अपने आने वाले नये आर्टिकल में उसे ठीक कर करने की कोशिश करूंगी 

धन्यवाद 

0 thoughts on “हीट स्ट्रोक यानि लू क्या है? गर्मी में क्यों बढ़ जाता है हीट स्ट्रोक का खतरा?”

Leave a Comment